पंचायत समीक्षा

पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर की पति की हत्या.. जानें कैसे खुला राज…

क्राइम न्यूज़ छत्तीसगढ़ प्रदेश महासमुन्द

महासमुंद।। थाना खल्लारी क्षेत्रांतर्गत डुमरपाली खम्हारमुडा जंगल के पगडंडी रास्ता में 27 मार्च को ईश्वरी साहू का शव मिला. शव को देखने से लग रहा था कि किसी ने गला को धारदार हथियार से रेत कर हत्या की है. इस अंधे कत्ल की गुत्थी पुलिस की टीम ने सुलझा ली है. मृतक की पत्नी और उसके प्रेमी ने मिलकर इस हत्या को अंजाम दिया।

घटना की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल कुमार ठाकुर ने शव की शिनाख्ती कर आरोपी की पता तलाश कर जल्द से जल्द गिरफ्तार करने के लिए थाना खल्लारी और सायबर सेल की टीम को निर्देशित किया गया. मुखबीर से सूचना मिली कि ग्राम नारा का ईश्वरी साहू जिसका हुलिया मृतक से मिलता है और वह 26 मार्च से घर से लापता है. इसके बाद पुलिस ने परिजनों से पूछताछ की. पूछताछ में पता चला कि ईश्वरी साहू काम में गया था, लेकिन वापस घर नहीं आया. परिजनों को थाना खल्लारी आकर शव का शिनाख्त करने के लिए हिदायत दी गई. मृतक का शव की पहचान ईश्वरी साहू बताया गया।

साइबर सेल की टीम ने मृतक का अपनी पत्नी मोंगरा के साथ विवाद और पत्नी से अलग रहने के आधार पर उनके संबंध में जानकारी एकत्रित की गई. मुखबिर से पता चला की मृतक की पत्नी का पहले से एक बस चालक के साथ घनिष्ठता थी. 26 मार्च को मृतक के साथ बस चालक को ग्राम नारा से मोटर साइकिल से भानसोज की ओर जाते देखा गया था. इस जानकारी के बाद बस चालक बिसहत दीवान की तलाश की गई. बस चालक को उसके निवास ग्राम भडहा से पकड़ कर पुलिस अभिरक्षा में लिया. पुलिस ने जब बस चालक से पूछताछ की तो गोलमोल जवाब देकर पुलिस को गुमराह करता रहा. पुलिस जब कडाई से पूछताछ की तो अपराध करना स्वीकार किया।

पिछले चार साल से प्रेम संबंध

बस चालक बिसहत दीवान ने बताया कि मृतक ईश्वरी की पत्नी मोंगरा बाई से पिछले चार साल से जान-पहचान और प्रेम संबंध है. मृतक काम के सिलसिले में अपने परिवार के साथ रायपुर में रहता था. पिछले साल लाॅकडाउन होने के बाद मृतक अपनी पत्नी को रायपुर में छोडकर गांव नारा आ जाने से इनका प्रेम संबंध और गहरा हो गया. पति-पत्नी में इसी बात को लेकर अक्सर विवाद होता रहता था. 21 मार्च को ग्राम नारा में सामाजिक बैठक जिसमें मृतक ईश्वरी साहू और मोगरा बाई का तलाक हुआ।

शराब पिलाकर की हत्या 

मृतक अपने दोनों बच्चों को अपने पास गांव में रखना चाहता था. जिसके कारण मृतक की पत्नी मोंगरा बाई पति और बच्चों से अलग होने के कारण अपने प्रेमी आरोपी बिसहत दीवान पिता बहारू दीवान ग्राम भड़हा के साथ मिल कर योजना बनाकर मृतक ईश्वरी को रास्ता से हटाने का योजना तैयार की. योजनानुसार दिनांक 26 मार्च को आरोपी ग्राम नारा गया. वहां से मृतक ईश्वरी साहू को घुमने जाने और शराब पिलाने के बहाने से भानसोज की ओर लेकर गया. भानसोज नहर के पास दोनो शराब पीये बाद और शराब पीने का लालच देकर आरंग शराब भट्ठी के पास लाया और मृतक को पैसे देकर शराब खरीदवाया

इसके बाद घोडारी महानदी पुल के पास आकर दोनो शराब पी और मृतक को ज्यादा नशा होने पर घुमाने ले जाने के बहाने से महासमुंद होते हुये डुमरपालीए खम्हारमुडा लभरा जंगल ले गया. जहां बची हुई शराब को फिर से दोनो ने पी. आरोपी ने कम शराब पी और ईश्वरी साहू को ज्यादा शराब पीला दी. मृतक शराब पिने के बाद मदहोश होकर वही सो गया. आरोपी ने शराब की बोतल फोड़कर मृतक के गले को रेत कर हत्या कर दी।

आरोपी के खिलाफ जुर्म दर्ज 

आरोपी ने अपना जुर्म स्वीकार करते हुए बताया कि चार साल से मोंगरा बाई से घनिष्ठता होने से वह उसके बच्चों से भी अत्यधिक प्यार करने लगा था. मृतक ने बच्चों को अपने पास ले आने की बात पर से वह भी मृतक से क्षुब्ध होकर प्रेमी एवं पे्रमिका योजना बनाकर ईश्वरी साहू की हत्या कर दी. आरोपियो के खिलाफ थाना खल्लारी में अपराध क्र. 47/21, धारा 302, 120बी भादवि. कायम कर विवेचना में लिया गया.

कार्रवाई में इनकी रही बड़ी भूमिका 

यह संपूर्ण कार्रवाई में पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल कुमार ठाकुर के मार्गदर्शन में अति. पुलिस अधीक्षक मेघा टेम्भुरकर साहू, अनु. अधिकारी महासमुंद नारद सूर्यवंशी के निर्देशन में सायबर सेल महासमुंद प्रभारी उनि संजय सिंह राजपूत थाना प्रभारी खल्लारी दीपा केवट, उनि. विनोद कुमार नेताम प्रआर. श्रवण कुमार दास, प्रकाश नंद, मिनेश सिंह ध्रुव, प्रवीण शुक्ला, माधव यादव आर, छत्रपाल सिन्हा, विरेन्द्र नेताम, दिनेश साहू और थाना स्टाॅफ की बड़ी भूमिका रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *