आज कल के स्मार्टफोन में क्यों नहीं होती रिमूवेबल बैटरी? यहां जानें इसके पीछे का पूरा माजरा…

नई दिल्ली।। क्या कभी आपने ये सोचा है कि मॉडर्न स्मार्टफोन में रिमूवेबल बैटरी क्यों नहीं होती है और ये कंज्यूमर्स को कैसे प्रभावित करता है? इस आर्टिकल में आज हम आपको इसी से जुड़ी कई अहम और महत्वपूर्ण फैक्ट्स बताने वाले हैं। जैसा कि हम जानते हैं कि Apple ने iPhones के जरिए नॉन-रिमूवेबल बैटरी पेश करने का ट्रेंड शुरू किया था। फोन मेकर्स के पास लेटेस्ट ट्रेंड्स का पालन करने और कुछ सैक्रिफाइस करने के अलावा कोई भी ऑप्शन नहीं था, क्योंकि कंज्यूमर्स अधिक एडवांस या हाइटेक स्मार्टफोन चाहते थे। 2010 की शुरुआत तक फोन में रिमूवेबल बैटरी होना सामान्य सी बात हुआ करती थी। यहां तक कि लैपटॉप मैन्युफैक्चर्स ने भी धीरे-धीरे रिमूवेबल बैटरी वाले डिवाइस बनाना बंद कर दिया है।

आइए इस बात को जानने की कोशिश करते हैं कि क्या रिमूवेबल बैटरी कंज्यूमर्स के लिए अच्छी हैं। सबसे पहले शुरुआत नॉन-रिमूवेबल बैटरी के फायदों के साथ शुरू करते हैं, जिन्होंने उन्हें मॉडर्न स्मार्टफोन के लिए जरूरी बना दिया है।

नॉन-रिमूवेबल बैटरी के फायदे:

बैटरी और कंज्यूमर्स की सेफ्टी- बैटरी में एक पतली इलेक्ट्रोलाइट होती है, जो cathode और anode इलेक्ट्रोड को अलग करती है, जो एनर्जी को स्टोर करते हैं। इलेक्ट्रोड सीधे संपर्क में आने पर शॉर्ट सर्किट के कारण बहुत अधिक हीट पैदा कर सकते हैं। इसके अलावा, इससे अधिक इंटरनल थर्मल रिएक्शन हो सकते हैं, जिससे बैटरी में विस्फोट या फिर आग लगने की भी आशंका हो सकती है। बैटरी टेक्नोलॉजी ने पिछले कुछ सालों में बहुत बैटरियों को डेवलप किया है, फिर भी वे कुछ मायनों में खतरनाक है।

एक्सीडेंटल डैमेज को रोकने के लिए रिमूवेबल बैटरी को एक हार्ट प्लास्टिक केस की जरूरत होती है, खासकर जब वे किसी फोन से कनेक्ट नहीं होते हैं। प्लास्टिक केस स्मार्टफोन के वजन में इजाफा कर देते हैं। इसलिए, जब कंज्यूमर ने स्लिमर, लाइटर डिजाइन की मांग की, तो इंजीनियरों ने एक परमानेंट बैटरी इंस्टॉल करने के बारे में सोचा। उन्होंने ये सुनिश्चित किया कि स्मार्टफोन खुद बैटरियों की प्रोटेक्शन करने में सक्षम हों, क्योंकि अब ये नॉन-रिमूवेबल हैं।

बैटरी टेक्नोलॉजी में सुधार- मॉडर्न स्मार्टफोन एक बार चार्ज करने पर काफी देर तक चलते हैं, क्योंकि वे lithium-ion और lithium-polymer बैटरी के साथ आते हैं। बैटरी मटेरियल का ये डेवलपमेंट और उसकी क्षमता फोन की बैटरी को पूरे दिन चलने देती है। बेहतर डिस्प्ले और ज्यादा पावरफुल चिप्स के लिए बैटरी की खपत बढ़ने के बाद भी फोन लंबे वक्त तक कंज्यूमर चला सकता है।

इसकी क्षमता में इजाफा होने का एक मतलब ये भी है कि कंज्यूमर्स को दोपहर में भी स्वैप आउट करने के लिए अतिरिक्त बैटरी की आवश्यकता नहीं होती है। इसके अलावा, चार्जिंग स्पीड में भी सुधार हुआ है, क्योंकि ज्यादातर मार्डन फोन पूरी तरह चार्ज होने में एक घंटे से भी कम समय लेते हैं।

फोन को टूट-फूट से भी सुरक्षा मिले-

हर दिन हर अपडेट और हर नई डिजाइन और फीचर्स के साथ स्मार्टफोन अधिक महंगे होते जा रहे हैं, क्योंकि ये अब और भी अधिक एडवांस होते जा रहे हैं। इसलिए, कंज्यूमर्स चाहते हैं कि उनकी फोन डिवाइस अधिक समय तक चले और उन्हें बहुत अधिक सेफ्टी प्रोटेंक्शन भी मिले। कंज्यूमर्स ये भी चाहते हैं कि ये डिवाइस आए दिन टूट-फूट का सामना न करें और कभी-कभार अगर गिर भी जाते हैं, तो फुल प्रोटेक्शन प्रदान करें।

इसलिए, स्मार्टफोन मेकर्स ने अपने डिवाइस को अधिक टिकाऊ बनाने के लिए आउटर केस को सील कर दिया है। लेकिन, इसके लिए कंज्यूमर्स को रिप्लेसेबल बैटरी के एक्सेस को खोना पड़ा है, क्योंकि अब ये सील हो चुकी हैं। इसके अलावा, रिमूव हो जाने वाले आउटर केस के साथ स्लिम, लाइट डिवाइस को डिजाइन करना भी कठिन हो गया है।

डिवाइस को ट्रैकिंग की सुविधा प्रदान करना-

इसमें कोई शक नहीं है कि प्रीमियम स्मार्टफोन चोरों को लुभाने का काम करते हैं, क्योंकि वे महंगे होते हैं । ऐसे में उसे चोरी करके दोबारा बेचना आसान होता है। हालांकि इस कारण, न केवल डिवाइस, बल्कि कंज्यूमर्स अपनी फाइनेंशियल जानकारी सहित कई संवेदनशील डाटा भी खो बैठते हैं। इसलिए, स्मार्टफोन मेकर्स डिवाइस के स्विच ऑफ होने पर भी पैसिव फोन ट्रैकिंग की अनुमति देते हैं। यह सुविधा कंज्यूमर्स को अपने डिवाइस को ट्रैक करने की अनुमति देती है।

लेकिन, स्मार्टफोन की बैटरी को हटाकर ट्रैकिंग की एबिलिटी को खत्म भी किया जा सकता है, जो कि इसका पावर सोर्स है। बिना किसी इक्यूपमेंट्स और विशेषज्ञता के चोरों के लिए बैटरी को निकालना असंभव हो जाता है, अगर इसे आपके फोन के केस के अंदर सील कर दिया जाए। नॉन-रिमूवेबल बैटरी आपको अपने फोन को ट्रैक करने में मदद करती है, भले ही आपको फोन मिसिंग हो या फिर स्विच ऑफ ही क्यों न हो।

नॉन- रिमूवेबल बैटरी के नुकसान:

वैसे तो नॉन- रिमूवेबल बैटरी में बहुत सारी खासियत होती हैं, फिर भी कंज्यूमर्स अभी भी कुछ फंग्शन और फीचर्स में असुविधा झेल रहे हैं। अब बात करते हैं नॉन-रिमूवेबल बैटरी की उन कमियों की, जिनको कंज्यूमर्स झेल रहे हैं।

कंज्यूमर क्या चाहते हैं?

ज्यादातर कंज्यूमर अपने डिवाइस में नॉन-रिमूवेबल बैटरी से खुश हैं, लेकिन कुछ ऐसे भी कंज्यूमर हैं, जो रिमूवेबल बैटरी की कमी होने की शिकायत भी करते हैं। रिमूवेबल बैटरी को खोना एक छोटी-सी कीमत है, जिसका भुगतान अधिकांश कंज्यूमर स्लिमर फॉर्म फैक्टर और आईपी रेटिंग जैसी सुविधाओं के लिए करना चाहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.