CG ब्रेकिंग – कर्ज में डूबे ऑनलाइन सट्टा – जुआ के आदि युवक ने लगाई फांसी, परिवार में टूटा दुख का पहाड़.. 

रायगढ़। आनलाइन सट्टा—जुआ के कारण लाखों के कर्ज में डूबे मित्तल परिवार के एक युवक ने अपने घर के पीछे गोदाम में फांसी लगाकर जान दे दी। इस घटना से शहर में खलबली मच गई।

सूचना पर पहुंची कोतवाली पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। दूसरी ओर शहर युवा कांग्रेस के नेताओं ने पुलिस अधीक्षक का ज्ञापन सौंपकर क्षेत्र में चल रहे जुआ—सट्टा पर रोक लगाने की मांग की है। भाजपा नेताओं ने भी मामले में उच्च स्तरीय जांच एवं दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार बुधवार की शाम शहर के रेलवे मालधक्का रोड मोहल्ले में बालाजी डोर फर्म के संचालक भीम सिंह मित्तल के पुत्र मयंक मित्तल उर्फ मिटठु (34) ने अपनी दुकान के पीछे गोदाम में साड़ी से फंदा बनाकर फांसी लगा ली। मयंक का शव फांसी के फंदे पर लटके देख परिजनों में खलबली मच गई। परिजनों ने इसकी जानकारी पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रारंभिक जांच के बाद शव को नीचे उतारा और पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मयंक पिछले चार-पांच वर्षों से किक्रेट सट्टे की लत की चपेट में था। वह लाखों रुपये गवां चुका था और लाखों का कर्जा भी था। इससे पहले भी वह क्रिकेट सट्टे में लाखो रुपये हारकर कर्जदार हो गया था जिसे उसके भाई ने चुकाया था। उसे क्रिकेट सट्टा नहीं खेलने की हिदायत दी गई थी, लेकिन वह फिर से 40—42 लाख रुपये के कर्जदार हो गया था। दो दिन पूर्व भारत—पाकिस्तान के बीच हुए टी-20 मैच में भी वह लाखों रुपये हारा था। इसे लेकर वह काफी परेशान था। आशंका है कि कर्ज के दबाव में आकर वह तनाव में था और उसने मौत का रास्ता चुन लिया। बहरहाल कोतवाली पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले की जांच कर रही है।

दूसरी घटना केवड़ा बाड़ी बस स्टैंड क्षेत्र की है। यहां होटल व्यवसाई मुनुवर खान का शव बाघ तलाब में बरगद के पेड़ पर फंदे में लटका मिला। बताया जा रहा है मुनुवर खान भी कर्ज के बोझ तले दबा था। हालांकि इसकी अभी तक किसी ने पुष्टि नही की है। पुलिस दोनों प्रकरण की जांच कर रही है।

सट्टा विरोधी तख्ती के साथ शवयात्रा में शामिल हुए लोग

गुरुवार की सुबह 11 बजे मयंक मितल की अंतिम यात्रा मालधक्का रोड स्थित उनके निवास से मुक्तिधाम के लिए निकाली गई। उसकी शवयात्रा में जुआ—सट्टा के खिलाफ जन आक्रोश देखने को मिला। शहर के सैकड़ों गणमान्य नागरिक मयंक की अंतिम यात्रा में सट्टा विरोधी तख्ती लेकर शामिल हुए। उन्होंने जुआ—सट्टा बंद कराने और खाईवालों को पर तत्काल कार्रवाई की मांग की। जूटमिल स्थित कया घाट मुक्ति धाम में अंतिम संस्कार किया गया। भाजपा जिला अध्यक्ष उमेश अग्रवाल ने सट्टा को सामाजिक बुराई बताते हुए कहा कि युवा इसकी गिरफ्त में फंसकर असमय आत्महत्या करने विवश हैं। इस बुराई को रोकने का अहम दायित्व पुलिस प्रशासन पर है लेकिन कानून के हाथ आज तक असल गुनाहगारों तक नहीं पहुंच पा रहे हैं। पहले क्रेशर व्यवसाई, लाज व्यवसाई के बाद अब मयंक मित्तल की आत्महत्या की घटना ने समाज को झकझोर दिया है। हार के बाद वसूली के दबाव युवा फांसी के फंदे तक जाने विवश है। अग्रवाल ने इन मामलो में उच्चस्तरीय जांच और दोषियों पर कार्यवाही की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 + five =