ब्रेकिंग – छठ पूजा के प्रसाद को यमुना में विसर्जित नहीं करेंगे श्रद्धालु, नदी में जाने की भी इजाजत नहीं, NGT ने जारी किया आदेश…

दिल्ली – छठ पूजा के तीसरे दिन यानी 30 अक्टूबर को दिल्ली प्रशासन ने यमुना नदी के पास आईटीओ घाट को सजाया गया है। यहां श्रद्धालु डूबते हुए सूरज को अर्घ्य दिया जाएगा और व्रत के अंतिम पड़ाव में 31 अक्टूबर को उदय होते सूर्य को श्रद्धालुओं द्वारा अर्घ्य देकर व्रत को संपन्न किया जाएगा। इस बार यमुना के किनारे बनाए गए कृत्रिम घाटों पर ही श्रद्धालु पूजा कर सकेंगे।

NGT (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल) ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि छठ उत्सव के दौरान किसी भी तरह के प्रसाद को यमुना नदी में विसर्जित करने की अनुमति नहीं है। साथ ही, यमुना के किनारे बनाए गए कृत्रिम घाटों पूजा हो सकेगी, वहां पानी में खड़े होकर श्रद्धालु पूजा कर सकेंगे। लेकिन नदी के पानी में जाने की इजाजत नहीं होगी। तो वहीं, यमुना नदी की सतह पर झाग बनने की समस्या से निपटने के लिए दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों ने रसायनों का छिड़काव किया है।

छठ पूजा का एक अनिवार्य हिस्सा पवित्र जल में स्नान करना माना जाता है। इस त्योहारी सीजन के दौरान, दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद में रहने वाले भक्त यमुना नदी की ओर जाते हैं और इसके पानी में डुबकी लगाते हैं और स्वस्थ, सुखी और समृद्ध जीवन के लिए सूर्य भगवान से आशीर्वाद लेते हैं। त्योहार के आसपास मुख्य अनुष्ठान में भक्त उपवास करते हैं और पृथ्वी पर जीवन को बनाए रखने के लिए सूर्य भगवान का आभार व्यक्त करने के लिए छठी मैया की पूजा करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × 3 =