CgBreaking – डेजी ने फिर दिखाई बहादुरी, भालू को खदेड़ बचाई मालिक की जान.. इस जिले की है पूरी घटना

कांकेर । Bitch saved the young man’s life: कहते है कुते से बड़ा कोई वफादार कोई जानवर नहीं होता। ये वाक्या वाकई में एक बार फिर सच साबित हुआ। जब एक बार फिर से फीमेल डाग डेजी ने भालू से अपने मालिक की जान बचाई।

जिले के ग्राम लाल माटवाड़ा में घर के अंदर घुसे भालू को डेजी ने फिर अपनी बहादुरी और सूझबूझ से घर से खदेड़ दिया है। बीते दिनों भी भालू घर की बाड़ी में घुस आया था। भालू और मकान मालिक रोशन साहू आमने-सामने हो गए थे, लेकिन फीमेल डाग डेजी ने मोर्चा संभालते हुए भालू से अपने मालिक की जान बचाई। इस बार भालू घर के अंदर प्रवेश कर गया जिसे डेजी भगाने में कामयाब रही।

बता दें कि जिले के ग्राम लाल माटवाड़ा में भालू लोगों के घरों में घुस रहा है। इसे लेकर गांव के लोगों में काफी दहशत है। इससे पहले भी गांव के रोशन साहू के घर में भालू घुस गया था। डेजी नाम की फीमेल डाग ने भालू से घिरे अपने मालिक को बचाया था। नहीं तो उस वक्त भी अनहोनी हो सकती थी। डेजी द्वारा भालू को भगाने का वीडियो वायरल हो गया है। इस वक्त भी रोशन साहू और भालू आमने-सामने हो गए थे। डेजी रोशन साहू के उपर आने वाले खतरे को भांप गई थी और दोनों के बीच पहुंच गई व भौंकने लगी। डेजी तब तक वहां डटी रही थी जब तक भालू भाग नहीं गया। गांव के वन विभाग को रूपेश कोर्राम ने कहा जंगल से कुछ करना भालू गांव की बस्ती में लालमाटवाड़ा आते रहते हैं। लोग काफी डरे हुए हैं। भालुओं की दहशत शाम दोनों समय भालू लोगों के घरों में दरवाजा तोड़कर अंदर घुस जाते हैं।

गौरतलब है कि पटेल पारा बस्ती में 110 घर हैं, जिसमें से दो माह में भालू 50 घरों का दरवाजा तोड़कर अंदर घुस गुड़, चावल, चना खाने के साथ तेल पी चुका है। सांस्कृतिक भवन का दरवाजा भी भालू तोड़ चुका है। लाल माटवाड़ा से लगे जंगल में पांच भालू हैं जो सुबह शाम बस्ती पहुंच रहे हैं। डेढ़ माह पहले ग्राम पंचायत में आयोजित ग्राम सभा में ग्रामीणों ने वन इस संबंध में विभाग के नाम भालुओं को चाहिए। ग्राम बस्ती तक पहुंचने से रोकने के पटेलपारा में उपाय करने आवेदन भी दिया, है। सुबह व लेकिन कोई पहल नहीं की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven + 4 =