CG ब्रेकिंग: ‘नहीं बनाऊंगा दूसरी पार्टी बहुत पैसा लगता है’: टीएस सिंहदेव बोले- बीजेपी में कभी नहीं जाऊंगा, सरकार के काम को दिए 10 में 7 नंबर…

  राजनांदगांव।।  छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव बुधवार को अपने एक दिवसीय प्रवास पर राजनांदगांव के दौरे पर रहे, जहां उन्होंने एक बार फिर बीजेपी में जाने की बात को खारिज कर दिया। जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि क्या भविष्य में वे अपनी नई पार्टी बना सकते हैं, तो उन्होंने हंसते हुए मजाकिया लहजे में जवाब दिया- ‘नहीं, बहुत पैसा लगता है’ ।

टीएस सिंहदेव से पत्रकारों ने पूछा था कि क्या चुनाव में बड़े भाई और छोटे भाई का मिलन होगा, इस पर जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि वे कभी भी बीजेपी में नहीं जाएंगे और न तो दूसरी पार्टी ही बनाएंगे। उन्होंने कहा कि मेरी जो व्यक्तिगत विचारधारा है, जो मेरे जीवन का दर्शन है, वो बीजेपी से मेल नहीं खाती, इसलिए मैंने बार-बार कहा है कि मैं भारतीय जनता पार्टी में नहीं जाऊंगा। हालांकि उन्होंने कहा कि आने वाले समय में उनका राजनीतिक भविष्य क्या होगा, वो समय ही बताएगा।

रमन सिंह बड़े भाई, बड़े भाई को छोटे भाई की चिंता करनी ही चाहिए

वहीं जब स्वास्थ्य मंत्री से ये पूछा गया कि पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह आपके राजनीतिक करियर को लेकर काफी चिंतित रहते हैं, तो उस पर टीएस सिंहदेव ने कहा कि रमन सिंह बड़े भाई हैं और बड़े भाई को छोटे भाई की चिंता करनी भी चाहिए। इसमें कोई दिक्कत नहीं है और मैंने उन्हें भी आश्वस्त किया है कि उन्हें कोई दिक्कत नहीं है, वो अपना ध्यान रख सकते हैं।

घोषणा पत्र में किए वादों को पूरा किया जाएगा

टीएस सिंहदेव ने बुधवार को नवनिर्मित नर्सिंग कॉलेज का भी लोकार्पण किया। इसके अलावा टीएस सिंहदेव ने विभिन्न मुद्दों पर भी चर्चा की। उन्होंने राज्य की कांग्रेस सरकार को 10 में 7 नंबर देते हुए कहा कि घोषणा पत्र बनाने की जिम्मेदारी मेरी थी। घोषणा पत्र में जो-जो वादे किए गए हैं, उसका पालन किया जाएगा। घोषणा पत्र में कोई हवा-हवाई बात नहीं है।

स्वास्थ्य मंत्री ने नवनिर्मित नर्सिंग कॉलेज का लोकार्पण करते हुए कहा कि राज्य में विशेषज्ञ डॉक्टरों की भर्ती की जा रही है। हर साल 1500 एमएमबीएस और 200-250 के करीब एमडी – एमएस निकलते हैं, उसी में से भर्तियां पूरी की जा रही हैं। अभी प्रदेश को 600 से ज्यादा विशेषज्ञ डॉक्टरों की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार एमबीबीएस डॉक्टरों के अलावा एमडी-एमएस की भर्ती करने की कोशिश कर रही है, लेकिन प्राइवेट सेक्टर में जाने के कारण उनके पद खाली हो जाते हैं। वहीं जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल को लेकर टीएस सिंहदेव ने कहा कि IPD के जरिए डॉक्टरों को 34 फीसदी इंसेंटिव दिया जा रहा है, ताकि उन्हें कम वेतन नहीं मिलने की शिकायत न हो। उन्होंने कहा कि हम बिना हड़ताल के भी सबकी बात सुनते हैं, इसलिए हड़ताल करना कहीं से भी सही नहीं है। बता दें कि 19 जनवरी से इंटर्न डॉक्टर हड़ताल पर जाने वाले हैं।

इसके अलावा टीएस सिंहदेव ने ईडी की कार्रवाई को लेकर सवाल पूछने पर कहा कि तथ्यों के आधार पर अगर कार्रवाई की जाती है, तो वो न्यायसंगत है, लेकिन अगर इसमें राजनीतिक दुर्भावना है, तो फिर वो न्यायसंगत नहीं है।

इंटर्न डॉक्टर 19 जनवरी से हड़ताल पर जाएंगे

स्टायपेंड नहीं बढ़ाए जाने से नाराज नेहरू मेडिकल कॉलेज व अंबेडकर अस्पताल के 350 से ज्यादा जूनियर डॉक्टर व 150 से ज्यादा इंटर्न डॉक्टर 19 जनवरी से हड़ताल पर जाएंगे। इससे ओपीडी समेत ऑपरेशन थिएटर में सर्जरी से लेकर लैब में ब्लड जांच, सोनोग्राफी से लेकर एमआरआई व सीटी स्कैन की जांच व रिपोर्टिंग प्रभावित हो सकती है। जूडो ने इमरजेंसी सेवा से भी बाहर रहने का निर्णय लिया है। मंगलवार को जूडो ने स्वशासी समिति की बैठक में कॉलेज पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव से भी  चर्चा की, लेकिन बात नहीं बन पाई थी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eleven − seven =