अजीब परंपरा: दुनिया की एकमात्र जगह.. जहां सुहागरात पर दुल्हन की मां भी दूल्हे के साथ सोती है!…

अफ्रीका में शादी की यह रस्म आज से नहीं बल्कि आदि काल से चली आ रही है. वहां के लोगों को यह नहीं पता है कि यह परंपरा कब से है, लेकिन इस परंपरा के पीछे वह जो तर्क देते हैं वह कमाल के हैं. इस तर्क को सुनने के बाद कोई भी इस परंपरा के बारे में गलत नहीं सोचेगा.

दुनिया भर में शादी की तमाम परंपराएं अजीबोगरीब हैं. लेकिन इस परंपराओं को मानने लोग हैं बड़ी दृढ़ता से इसे फॉलो करते हैं. उनके अपने तर्क होते हैं और वह बड़े ही धूमधाम से इन रस्मों को निभाते हैं. ऐसी ही एक रस्म इन दिनों चर्चा में बनी हुई है, जिसमें शादी के बाद दुल्हन की मां भी दूल्हे के साथ सुहागरात के दिन सोती है।

शायद आप सोच में पड़ जाएंगे !

दरअसल वैसे तो पूरी धरती पर अलग-अलग इलाकों में शादी की अलग-अलग रस्में हैं. उसे वह निभाने वाले इसे निभाते भी हैं. लेकिन अफ्रीकी महाद्वीप के कई देशों में एक ऐसी रस्म है जिसे सुनकर शायद आप सोच में पड़ जाएंगे. यहां के कुछ ट्राइबल इलाकों में शादी के बाद दुल्हन की मां भी कपल के साथ सुहागरात में शामिल होती है और एक दिन के लिए उनके साथ सोती है।

बड़े ही जबरदस्त तर्क दिए जाते हैं

यह परंपरा बहुत ही लंबे समय से चली आ रही है. स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इन परंपराओं को फॉलो करने वाले लोग बताते हैं कि उन्हें नहीं पता कि यह कब से चली आ रही है, लेकिन इसके बारे में हुए बड़े ही जबरदस्त तर्क देते हैं. उनका कहना है वह बताते हैं कि ऐसी परंपराएं क्यों निभाते हैं. दुल्हन की मां दूल्हे के साथ एक रात सोती है।

परिवार के अन्य लोगों से बताती है

उनका कहना है दूल्हा और दुल्हन एक दूसरे के लिए नए होते हैं। और उन्हें सलाह और मशविरा देने के लिए मां पहली रात उनके साथ होती है. वह बताती है खुशी जिंदगी कैसे जी जाती है, इसके लिए क्या-क्या करना पड़ेगा. इसके बाद मां अगले दिन परिवार के अन्य लोगों से बताती है कि दूल्हे और दुल्हन की पहली रात कैसी रही, क्या वे खुश रहे या खुश नहीं थे।

नए शादीशुदा जोड़े के साथ..

बस इसी परंपरा को निभाने के लिए दुल्हन की मां नए शादीशुदा जोड़े के साथ रात में सोती है. एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक इससे मिलती-जुलती परंपरा चीन के भी कुछ इलाकों में है. यहां शादी के पहले ही दुल्हन और उसका परिवार दूल्हे के साथ समय बिताते हैं. फिलहाल अफ्रीका की यह रस्म चर्चा में है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 − 10 =