छत्तीसगढ़अम्बिकापुरकोरोनासरगुजा संभाग

AMBIKAPUR : जिला अस्पताल में डॉक्टर एवं नर्स की घोर लापरवाही से महिला की मौत…

अम्बिकापुर।।दिनांक 06/05/2021 को सविता जायसवाल पति अंबिका प्रसाद जायसवाल को उम्र 21 वर्ष ग्राम रमेश पुर थाना रघुनाथ नगर जिला बलरामपुर के निवासी है, जो कि गर्भवती थी। जिसकी डिलीवरी दिनांक 06/05/2021 को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र रघुनाथ नगर में लगभग रात्रि 10:00 हुई डिलीवरी के बाद चिकित्सक के द्वारा अंबिकापुर ले जाने को कहा गया।

उसके बाद गुलाब चंद एवं उनकी मां के द्वारा जीजा के साथ निजी वाहन में अंबिकापुर लगभग 2:30 बजे रात्रि में जिला अस्पताल पहुंचे तथा इमरजेंसी वार्ड में जाकर डॉक्टर और नर्स को बताया कि मेरी बहन की डिलीवरी हुई है और खून ज्यादा बह रहा है इलाज कीजिए मगर डॉक्टर नर्स के द्वारा चिल्लाते हुए बोला गया कि रात में भी चैन से नहीं रहने देते हो कहां कहां से पहुंच जाते हो जाओ व्हीलचेयर खोज कर मरीज के वार्ड में लेकर आओ जबकि बगल के कमरे में ही व्हीलचेयर रखा हुआ दिख रहा था उस व्हीलचेयर को ले जाने पर बोला गया कि व्हीलचेयर तुम लोगों के लिए नहीं है यह कोई प्राइवेट हॉस्पिटल नहीं है।

उसके बाद मजबूरी बस अस्पताल के हर रूम में व्हीलचेयर खोजता रहा लेकिन कहीं नहीं मिला वापस जाकर बोले कि व्हीलचेयर नहीं मिल रहा है बार-बार निवेदन करने एवं गिड़गिड़ाने के बाद नर्स द्वारा बगल के कमरे से व्हीलचेयर दिया गया बड़ी हैरानी की बात यह है व्हीलचेयर खोजते खोजते पूरे अस्पताल के हर कमरे का चक्कर लगा डाला जिसमें 45 मिनट समय बर्बाद हुआ व्हीलचेयर जब पहले से ही उसके बगल के कमरे में था लेकिन नर्स के द्वारा गुमराह किया गया उससे मरीज की तबीयत और भी गंभीर होती चली गई।

फिर मरीज को वार्ड में लाया गया तथा डॉक्टर और नर्स के द्वारा कोरोना का टेस्ट किया गया डॉक्टर द्वारा रिपोर्ट बताया गया कि नेगेटिव है।

उसके बाद मरीज को जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया सांस लेने में दिक्कत हो रही थी जिस वजह से उनको ऑक्सीजन सिलेंडर लगाया गया, जो कि वह पूर्ण रुप से ऑक्सीजन सिलेंडर खाली था, हॉस्पिटल स्टाफ के घोर लापरवाही की वजह से खाली ऑक्सीजन सिलेंडर की चलते सविता जायसवाल की मृत्यु हो गई।

मृत्यु होने के बाद भी नर्स के द्वारा दिखावा करते हुए बोतल और इंजेक्शन दिया गया जबकि मरीज का मृत्यु हो चुका था।

तत्काल डॉक्टर और नर्सों की खोर लापरवाही को देखते हुए मरीज के भाई के द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से फेसबुक में ऑनलाइन आकर वीडियो लाइव किया गया वीडियो में स्पष्ट दिख रहा है कि ऑक्सीजन सिलेंडर खाली है जिसके कारण उनकी मृत्यु हो गई लाइव वीडियो बनाने पर डॉक्टर और नर्स के द्वारा घोर नाराजगी व्यक्त किया गया एवं नर्स के द्वारा बदतमीजी भी किया गया।

क्योंकि उनकी लापरवाही वीडियो में साफ-साफ दिख रही है. ठीक उसके 1 घंटा बाद दरिंदा रूपी डॉक्टर एवं नर्स के द्वारा बुलाकर बोला गया कि आपकी बहन कोरोना पॉजिटिव आई है।

अपने आप को बचाने के लिए मरीज को कोरोना पॉजिटिव भी घोषित कर दिया गया रिपोर्ट में लिखा गया कि कोविड-19 आईसीयू में भर्ती किया गया है। बड़ी ही हैरानी की बात यह है कि जब मरीज को जनरल वार्ड में भर्ती किया गया था यह वीडियो में साफ-साफ दिख रहा है । लेकिन अस्पताल प्रबंधक द्वारा अपने स्टाफ की लापरवाही को छुपाते हुए गलत रिपोर्ट बना कर दे दिया गया।

इस कृत्य से साफ दर्शित हो रहा है कि अस्पताल प्रबंधक की पूरी लापरवाही है और अस्पताल में स्टाफ द्वारा की गई लापरवाही के कारण गुलाबचंद की बहन का मृत्यु हुई है।

इन घोर लापरवाह डॉक्टरों एवं नर्सों के ऊपर कार्यवाही की मांग करते हुए।

सरगुजा कलेक्टर को आवेदन के माध्यम से अवगत कराया

गया है। तथा प्रतिलिपि

1. माननीय मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ शासन रायपुर

2. माननीय स्वास्थ्य मंत्री छत्तीसगढ़ शासन रायपुर

3. श्रीमान सरगुजा कमिश्नर को

देकर कड़ी से कड़ी कार्यवाही की मांग की है।

मरीज की भाई के द्वारा रोते हुए कहा गया कि मेरे बहन की जान वापस नहीं आ सकती लेकिन फिर कभी आने वाले समय में इस क्षेत्र के बहनों के साथ ऐसा ना हो ।

पंचायत समीक्षा

पंचायत समीक्षा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button