पंचायत समीक्षा

BIG BREAKING CG:ढाई-ढाई साल मुख्यमंत्री के फार्मूले पर सियासत गर्म.. इस पूर्व मंत्री ने ट्वीट कर कसा तंज..पढ़िए पूरी खबर

छत्तीसगढ़ प्रदेश राजनीति रायपुर

रायपुर।। प्रदेश की सत्ता में आये कांग्रेस को इस महीने ढाई साल हो जाएंगे और इसको लेकर पूर्व कैबिनेट मंत्री अजय चंद्राकर ने एक ट्वीट किया है। यही नही पूर्व कैबिनेट मंत्री ने प्रदेश सरकार पर तंज कसते हुए लिखा है.. की 17 जून को कांग्रेस सरकार के ढाई साल पूरे होंगे.. देखना है ?

दरअसल पूर्व कैबिनेट मंत्री अजय चंद्राकर का यह तंज प्रदेश में मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर है.. और ऐसा इसलिए है..क्योंकि प्रदेश में हुए पिछले विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाने की राह पर थी..लेकिन मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर घमासान मचा हुआ था.. कांग्रेस के तमाम कद्दावर नेताओ का जमावड़ा दिल्ली दरबार था.. और कई तरह के अटकलों का दौर चला एक ओर टीएस सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू, चरणदास महंत मुख्यमंत्री पद की दौड़ में थे।

तो वही दूसरी ओर पाटन विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक भूपेश बघेल मुख्यमंत्री पद के दावेदार थे.. तथा कांग्रेस आलाकमान खुद कई दौर की बैठक प्रदेश के कद्दावर कांग्रेसी नेताओं व प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया से कर चुके थे. और बैठकों का नतीजा भूपेश बघेल के पक्ष में आया था.. और तत्कालीन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रहे भूपेश बघेल मुख्यमंत्री बनाये गए..

मुख्यमंत्री बनने के बाद भूपेश बघेल के साथ टीएस सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू ने एक साथ पद एवं गोपनीयता की शपथ ली.. लेकिन पार्टी का एक धड़ा आलाकमान के फैसले से नाखुश था.. तब पार्टी आलाकमान की ओर से ढाई-ढाई साल का फार्मूला सामने आया.. यानि ढाई साल भूपेश बघेल तो ढाई साल टीएस सिंहदेव.. और अब वह घड़ी नजदीक आ ही गई है.. 17 जून को भूपेश सरकार के कार्यकाल के ढाई साल पूरे हो जाएंगे.. और उसके बाद प्रदेश में सियासी समीकरण का रुख किस ओर होगा.. यह कह पाना अभी मुश्किल है. खुद कांग्रेसजनों की निगाह दिल्ली दरबार पर टिकी हुई है.. की आखिर आलाकमान का फैसला क्या होगा?

वही पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने ढाई-ढाई साल के फार्मूले को लेकर तंज कसते हुए ट्वीट किया है. उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा है.. की “आज जून लग गया…? 17 जून को कांग्रेस सरकार के ढाई साल पूरे होंगे.. देखना है?

मान. श्री @TS_SinghDeo को राज सिंहासन मिलेगा (हाई कमान की विश्वसनीयता का सवाल है..) या सदा के लिए शिकार खेलने दक्षिण अफ्रीका जायेंगे..

“बाबा का बुलबुला… तो फूटेगा ही ”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *