पंचायत समीक्षा

अंबिकापुर में हेरोइन तस्करी पहली बार:1 करोड़ 10 लाख का ब्राउन शुगर और हेरोइन जब्त, तीन गिरफ्तार…

अम्बिकापुर क्राइम न्यूज़ छत्तीसगढ़ सरगुजा संभाग

 

सरगुजा।। अंबिकापुर में ब्राउन शुगर और हेरोइन की तस्करी करते पकड़ी गई बिहार के सासाराम की महिला तस्कर गीता सोनी उर्फ सोनारिन को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस को 8 तस्करों का नाम-पता उसकी डायरी में मिला है, जिसे पुलिस ने जब्त कर लिया है।

डायरी में गढ़वा का गौरी नामक तस्कर भी है, जो अंबिकापुर में ब्राउन शुगर की तस्करी करता है। इसके बाद पुलिस ने जांच का दायरा बढ़ाया है। पुलिस अधीक्षक तुकाराम कांबले ने बताया कि तस्करों का नेटवर्क पूरे देशभर में जुड़ा रहता है। पकड़े गए तस्करों की संपति की भी जांच पुलिस करेगी। पुलिस को आशंका है कि महिला तस्कर का बड़े ड्रग्स माफिया से सीधा-संपर्क हो सकता है। सरगुजा पुलिस ने झारखंड और बिहार के दो तस्करों के साथ अंबिकापुर के एक स्थानीय ब्राउन शुगर के विक्रेता को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 625 ग्राम ब्राउन शुगर और 110 ग्राम हेरोइन जब्त किया है। इसकी कीमत 1.10 करोड़ बताई गई है। अंबिकापुर में पहली बार हेरोइन पकड़ी गई है। दैनिक भास्कर को इस कार्रवाई में शामिल गांधी नगर थाना प्रभारी अलरिक लकड़ा ने बताया कि जब गीता सोनी को ब्राउन शुगर और हेरोइन के साथ पकड़ा तो वह कुछ भी नहीं बता रही थी।

वह अपना पता रांची-झारखंड बता रही थी। इसके आधार पर उसका बयान भी दर्ज किया गया, लेकिन आशंका होने पर रांची में इस नाम की महिला तस्कर के बारे में वहां की पुलिस से कोई जानकारी नहीं मिली। इसके बाद लगातार पूछताछ करने पर वह बाद में टूट गई और बताया कि वह बिहार के सासाराम की रहने वाली है। इसके बाद सासाराम पुलिस से जानकारी ली गई तो पता चला कि उसके खिलाफ वहां भी कई केस दर्ज हैं। इसके बाद भी गीता सोनी ने पुलिस को इसकी जानकारी नहीं दी कि वह ब्राउन शुगर को और कहां-कहां खपाने वाली थी। उसका कहना था कि उसे एक आदमी ने पहुंचाने दिया है। हालांकि पुलिस गीता को बड़ा ड्रग्स माफिया मान रही है। वहीं इस गीता के पीछे के माफिया का नाम अभी सामने नहीं आया है।

एफएसएल लैब में जब्त हेरोइन की क्वालिटी हाई लेबल की मिली
अंबिकापुर पुलिस अब तक तस्करों से ब्राउन शुगर ही पकड़ती रही है, लेकिन पहली बार ब्राउन शुगर के साथ तस्कर को हेरोइन के साथ पकड़ा है। सरगुजा को हेरोइन के नशे का नया बाजार बनाने की फिराक ने नशे के कारोबारी लगे हैं। पुलिस भी जब तस्कर को पकड़ने पहुंची तो इसकी सूचना नहीं थी कि तस्करों के पास हीरोइन भी है। जब्त हेरोइन की जांच एफएसएल लैब में कराई गई, जहां की रिपोर्ट में हेरोइन हाई क्वालिटी की है।

झारखंड से कार से अंबिकापुर पहुंचे थे तस्कर
एसपी ने बताया गांधीनगर नमनाकला निवासी रसेल एक्का की पहले से सूचना थी कि वह अवैध कारोबार में लिप्त है। इस पर उसके पीछे मुखबिर लगाया था और गतिविधियों पर नजर रख रहे थे। इस बीच झारखंड के मृत्युंजय गुप्ता उर्फ पप्पू सोडी व गीता उर्फ सोनारिन तस्कर के आने की जानकारी मिली, जिनका इंतजार पहले से रसेल प्रतापपुर नाका में कर रहा था। तस्कर बैगन-आर कार से पहुंचे और पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया।

इनसे इतना सामान जब्त: महिला तस्कर का पति विकलांग, इसलिए कर रही यह धंधा
गिरफ्तार गीता सोनी ने पुलिस को बताया कि उसका पति विकलांग है और वह घर पर ही रहता है। इसलिए वह खुद यह काम कर रही है। मौके से पुलिस ने रसेल एक्का के पास से 20 ग्राम ब्राउन शुगर, सोनपुरवा, गढ़वा झारखंड निवासी मृत्युंजय गुप्ता उर्फ पप्पू सोनी पिता स्व. सीताराम गुप्ता 52 वर्ष से 105 ग्राम ब्राउन शुगर और ताराचंडी रोड सासाराम रोहतास बिहार निवासी गीता सोनी उर्फ सोनारिन पति डोमा सेठ 48 वर्ष से 500 ग्राम ब्राउन शुगर और 110 ग्राम हेरोइन जब्त किया गया। कुल 625 ग्राम ब्राउन शुगर जब्त किया गया। इसका अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत लगभग 1 करोड़ 10 लाख रुपए है।

पकड़े गए तस्करों के मोबाइल फोन के काॅल डिटेल से रैकेट की तह तक जाएगी पुलिस
पुलिस ने कहा अंबिकापुर का तस्कर रसेल इतना बड़ा तस्कर नहीं है कि वह झारखंड व बिहार के तस्करों का पूरा ब्राउन शुगर व हेरोइन खरीद लेता। आशंका है कि तस्कर छत्तीसगढ़ के दूसरे शहरों में इसकी डिलेवरी देने वाले थे। पकड़े गए तस्करों के मोबाइल का काॅल डिटेल भी पुलिस निकलवा सकती है, जिससे उसे ड्रग्स रैकेट की तह तक जाने में आसानी होगी। कार्रवाई में थाना प्रभारी गांधीनगर अलरिक लकड़ा, रविन्द्र प्रताप सिंह, सतीश सिंह, राधा यादव, आरक्षक शमीनुल हसन, अमृत सिंह, अतुल सिंह, अमरेश सिंह, सलीम मलिक, वीरेन्द्र पैकरा, मआर जयंती बड़ा शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *